यदि आप यह संदेश देख रहे हैं तो इसका अर्थ है कि हमें अपनी वेबसाइट पर एक्सटर्नल रिसोर्सेज को लोड करने में समस्या हो रही है।

If you're behind a web filter, please make sure that the domains *.kastatic.org and *.kasandbox.org are unblocked.

मुख्य कॉन्टेंट

खान अकैडमी शिक्षणशास्र (pedagogy)

खान अकैडमी शिक्षाशास्त्र (pedagogy) के सिद्धांत
हमारा शिक्षाशास्त्र (pedagogy) तीन मूलभूत सिद्धांतों पर आधारित है।
1. निजीकरण (Personalisation)
जब निजीकरण की बात आती है, तो कुछ चीजें हैं जो वास्तव में महत्वपूर्ण हैं।
  • पहला यह है कि प्रत्येक छात्र के लिए यहाँ सही कांटेंट है, और हो सकता है कि आपकी कक्षा के सभी छात्रों के लिए समान कांटेंट इस्तेमाल न हो। हम खान अकादमी में उस कांटेंट को व्यक्तिगत (personalise) बनाने में मदद करते हैं, लेकिन अंततः, आप शिक्षक ही है जो खान अकैडमी का उपयोग करके कांटेंट को व्यक्तिगत बनाने में सबसे प्रभावी होने वाला है।
  • और दूसरा, स्टूडेंट्स इसे अपनी गति से कर सकते हैं, इसलिए अगर किसी स्टूडेंट को ज़्यादा अभ्यास की ज़रूरत है, तो उसे अतिरिक्त अभ्यास यहाँ मिलेगा। यह स्टूडेंट को अनेक बार अभ्यास करने के लिए या तेज गति से आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है।
इसका मतलब है
वर्तमान शिक्षाशास्त्र (Current pedagogy)खान अकैडमी का शिक्षाशास्त्र (Khan pedagogy)
सारे छात्र एक साथ आगे बढ़ते हैंप्रत्येक स्टूडेंट अपने गति से आगे बढ़ता/ बढ़ती है
छात्रों को परीक्षा के अंत में प्रगति का पता चलता हैछात्रों को तुरंत प्रतिक्रिया मिलती है और वे अपना कठिनाई स्तर बढ़ा सकते है
शिक्षक पूरे कक्षा को एक साथ कांटेंट असाइन करता हैशिक्षक प्रत्येक छात्र को अलग अलग कांटेंट असाइन कर सकता है
2. मास्टरी लर्निंग
मास्टरी पर आधारित शिक्षा सुनने में बहुत कठिन लग सकती है लेकिन यह एक बहुत ही सरल सिद्धांत है। मास्टरी पर आधारित का मतलब है कि छात्रों को अगले विषय पर तभी जाना चाहिए जब उन्हें पिछले विषयों में मास्टरी हासिल कर ली हो।
इसका मतलब है
वर्तमान शिक्षाशास्त्र (Current pedagogy)खान अकैडमी का शिक्षाशास्त्र (Khan pedagogy)y
शिक्षकों को परीक्षा के अंत में छात्रों के प्रगति का पता चलता हैहमारी मास्टरी रिपोर्टों के माध्यम से, शिक्षकों को छात्र की व्यक्तिगत शक्तियों और कमजोरियों के बारे में अक्सर पता चलता रहता है।
छात्रों को किसी भी समय (परीक्षा के माध्यम से) अपनी क्षमता का आकलन करने को मिलता हैछात्र किसी विषय पर अपनी क्षमता पर बार-बार मूल्यांकन कर सकते हैं और जब तक वे सही स्तर तक नहीं पहुंच जाते हैं, तब तक वे अपना प्रयास जारी रख सकते हैं
छात्र पिछले टॉपिक को पूरी तरह से समझे बिना अगले टॉपिक की ओर बढ़ जाते हैंछात्रों को अगले टॉपिक पर जाने से पहले एक टॉपिक में मास्टरी हासिल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है
छात्रों को परिभाषित समय सीमा में सब कुछ खत्म करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता हैछात्रों को अपनी गति से सही गुणवत्ता के साथ सब कुछ खत्म करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है
3. छात्रों की मानसिकता को विकास की मानसिकता (growth mindset) में परिवर्तित करें
जब हम एक छात्र के मानसिकता के बारे में सोचते हैं, अपने लिए और अपने छात्रों के लिए, तो यह मानना काफ़ी ज़रूरी हो जाता है की उन्हें अपनी क़ाबिलियत पर भरोसा हो ("मैं कुछ भी सीख सकता हूं" वाली मानसिकता चाहिए)।
हमारी वेबसाइट इस मानसिकता को ऐसे प्रोत्साहित करता है:
  • एक छात्र को हर समय कांटेंट उपलब्ध कराना और उपयुक्त सहायता देना ताकि छात्र सीखने की प्रक्रिया में कभी भी अकेला महसूस न करे।
  • जब वे किसी विशेष समस्या पर अटक जाएँ, तो छात्रों को सहायता देना। वेबसाइट पे कुछ ऐसे भाग छात्रों को इस बात का महसूस दिलाते हैं की ये काफ़ी सामान्य बात है की पहली बार में पूरे टॉपिक को ना समझ पाना। हर अभ्यास के ठीक नीचे, "क्या आप फंस गए हैं? मदद लीजिए।" लिखा हुआ मिलता है।
  • इस बात के लिए प्रोत्साहित करना की आपके जवाब के सही या ग़लत होने से फ़र्क़ नहीं पड़ता, ये आपकी मेहनत है जो आपको आगे बढ़ती है।

क्या आप चर्चा में शामिल होना चाहते हैं?

अभी तक कोई पोस्ट नहीं किया गया है।
क्या आप अंग्रेजी भाषा समझते हैं? खान अकैडमी की अंग्रेजी वेबसाइट पर चल रही और अधिक चर्चाओं को देखने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।