बीजगणित

बीजगणित वह भाषा है जिससे हम गणित में प्रतिरूप को वर्णित करते हैं। इसमें समस्याओं को निरुपित करने के लिए संख्याओं के साथ साथ शब्दों का भी प्रयोग किया जाता है ।

क्या आपको अंदाज़ा लगा की "algebra" शब्द अरबी भाषा से आया है ( जैसे की "algorithm" और "al jazeera" और "Aladdin")? तो बीजगणित के बारे में क्या चीज़ इतनी ख़ास है? बीजगणित वह भाषा है जिसके माध्यम से हम गणित में पैटर्न को समझाते हैं। इसमें हम अक्षय और संख्याओं की मदद से प्रश्न को दर्शाते हैं। इस पाठ में हम माचिस के पैटर्न के बारे में सीखेंगें, हम चरों पर भी विचार करेंगें और फिर समझेंगें की कहाँ हम इन चरों का प्रयोग कर सकते हैं। एक चर को एक अक्षर से दर्शाया जाता है जो कोई भी मान ले सकता है। हम रैखिक व्यंजकों को लिखना सीखेंगे और उन्हें हल करने के तरीके भी देखगें। इस अभ्यास में बीजगणित को ज्यादा नहीं जानेगें इसमें उसके इतिहास और उसके पीछे की सोच की बात करेंगें।

हम गणित में अक्षरों का प्रयोग क्यों कर रहे हैं? 'x' एक संख्या को कैसे निरूपित कर सकता है? वह संख्या क्या होगी? इस अभ्यास में हम चरों और समीकरणों के बारे में पढ़ेंगे|

(4x+5) जैसे व्यंजकों, जिनमे चर x होता है, उनका मूल्यांकन नहीं किया जा सकता है। सिर्फ अगर x को कोई मान दिया जाए, तभी (4x+5) जैसे व्यंजक को हल किया जा सकता है। इस प्रकरण में हम घातीय समीकरण का मूल्यांकन करना सीखेंगे, हम व्यंजक, चर लिखेंगे, और सीखेंगे कि इन्हें कैसे हल करें जब चर का मान निर्दिष्ट हो।

एक समीकरण में एक चर का मान जो समीकरण को संतुष्ट करता हो, समीकरण का हल कहलाता है। यहाँ हम एक समीकरण को प्रतिस्थापन द्वारा हल करना सीखेंगे।